Debit Card क्या है? इसके प्रकार। डेबिट कार्ड के फायदे

Debit card क्या है? क्या जरूरत पड़ने पर डेबिट कार्ड से पैसे निकाले जा सकते है?

सोचिए यदि आपके पास बैंक की सुविधा नहीं होती तो आप अपने पैसे को अपने जेब में लेकर गुमते जिससे आपके पैसे चोरी होने के संभावनाएं होती।

इसलिए ऐसे धोखाधड़ी से बचाने के लिए बैंक हमे डेबिट कार्ड की सुविधा प्रदान करता है। डेबिट कार्ड की सहायता से हम जब चाहे तब अपने पैसे निकाल सकते है।

Debit Card क्या है?

डेबिट कार्ड पैसे भुगतान करने का एक तरीका है। जो कुछ सामान खरीदने के बाद पैसे का भुगतान सीधे आपके चेकिंग अकाउंट से करता है।

यह भी एक प्लास्टिक के टुकड़े जैसा ही होता होता है जैसे की क्रेडिट कार्ड। आप अपने क्रेडिट कार्ड को नकद रुपए के रूप में भी देख सकते है।

एक साथ लाखो रुपए को लेकर कही पर जाना खतरा हों सकता है लेकिन वही लाखो रुपए डेबिट कार्ड में ले जाने में कोई खतरा नहीं होता है।

Debit card कैसे प्राप्त करे?

जब भी आप किसी बैंक में अकाउंट खोलते है तो वह बैंक आपको एक डेबिट कार्ड प्रदान करता है। तो अब पैसों को जूते के डब्बे में छुपाना बंद करे और अपने पैसे को बैंक में जमा करे।

डेबिट कार्ड के प्रकार

Visa Debit Cards

भारत और विदेशों में सबसे आम डेबिट कार्ड वीज़ा डेबिट कार्ड होता है।  यह कार्ड सभी प्रकार के ऑनलाइन भुगतान और इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन के लिए विश्व स्तर पर स्वीकार किया गया है।

जिन बैंकों ने वीज़ा के international Payment System Network के साथ समझौता किया है वे वीज़ा कार्ड प्रदान करते हैं।

जब आप अपना वीज़ा कार्ड स्वाइप करते हैं, तो आपका ऑनलाइन लेनदेन एक सुरक्षित भुगतान प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से पूरा किया जाता है जिसे Verified by Visa कहा जाता है। 

भारत में अधिकतर बैंक आमतौर पर classic visa electron debit cards कार्ड प्रदान करते हैं, जो एक प्रकार का वीज़ा कार्ड ही है।

MasterCard Debit Card

मास्टरकार्ड डेबिट कार्ड भी अविश्वसनीय रूप से लोकप्रिय हैं, इनका नेटवर्क वीज़ा नेटवर्क जितना फैला हुआ नहीं है। 

जैसा कि कहा गया है, भारत के अधिकांश प्रमुख बैंक मास्टरकार्ड नेटवर्क से जुड़े हुए हैं।  आप घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय ऑनलाइन लेनदेन के भुगतान के लिए मास्टरकार्ड डेबिट कार्ड का उपयोग कर सकते हैं।

RuPay Debit Cards

Domestic debit card स्कीम के तहत National Payments Corporation of India द्वारा शुरू की गई, RuPay डेबिट कार्ड केवल भारत में स्वीकार किए जाते हैं। 

आप इस प्रकार के डेबिट कार्ड का उपयोग सभी प्रकार के घरेलू लेनदेन(भारत से भारत में) के लिए कर सकते हैं जैसे ऑनलाइन खरीदारी के लिए भुगतान करना और अपने लाइट बिलों का भुगतान करना। 

Contactless Debit Cards

आज के समय में बैंक एक अनोखे प्रकार का डेबिट कार्ड जारी करते हैं – contactless debit card जो आपको कार्ड स्वाइप किए बिना भुगतान करने की अनुमति प्रदान करता है। 

आप Contactless Debit Cards से तेजी से लेनदेन पूरा कर सकते हैं जो रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) या नियर फील्ड कम्युनिकेशंस (एनएफसी) सिद्धांत पर काम करते हैं। 

इन टेक्नोलॉजी के माध्यम से आपका कार्ड PoS टर्मिनल से जुड़ जाता है, जिससे आप सुरक्षित इलेक्ट्रॉनिक भुगतान करने में सक्षम हो जाते हैं।

Debit Card vs. Credit Card

डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड में पैसे को लेकर अंतर होता है। यदि आपको कुछ चीजों खरीदना है और आपके बैंक में पैसे तो आप वाला भुगतान अपने डेबिट कार्ड से कर सकते है।

परंतु आपको कुछ खरीदना है लेकिन आपके बैंक में पैसे नही तो ऐसी स्थिति में आप क्रेडिट कार्ड का उपयोग करके पैसे चुका सकते है। लेकिन बाद में आपको ब्याज भी भरना पड़ता है।

Debit Card vs. Prepaid Debit Card

प्रीपेड डेबिट कार्ड एक ट्रेडिशनल डेबिट कार्ड की तरह होता है। इसमें आप अपने क्षमता से अधिक पैसे खर्च नहीं कर सकते है।

इन दोनो में फर्क इतना ही है की पैसा कहा से आता है? प्रीपेड कार्ड में जब कोई व्यक्ति इसे खरीद लेता है तो पैसे कार्ड पर लोड किए जाते है। इसलिए ज्यादा खर्च करने की कोई संभावन ही नही होती है।

डेबिट कार्ड के लाभ क्या है?

  • Prepaid card
  • Nominal fee
  • Alternative to cash
  • धन का तत्काल हस्तांतरण
  • नकदी की तुरंत निकासी
  • प्रबंधन करना आसान है
  • बोनस अंक अर्जित करता है
  • अंक भुनाने पर उपहार
  • Cash back
  • मुफ़्त बीमा कवरेज

FAQ

डेबिट कार्ड कौन प्रदान करता है?

डेबिट कार्ड उन बैंकों द्वारा प्रदान किए जाते हैं जहां आपका बचत या चालू खाता होता है।

क्या मेरे पास एक से अधिक डेबिट कार्ड हो सकते हैं?

 हां.

डेबिट कार्ड का उपयोग करने पर क्या शुल्क लागू होते हैं?

 कुछ बैंक डेबिट कार्ड जारी करने के लिए पैसे लेते हैं जबकि कुछ बैंक इसे मुफ्त में देते हैं।  आपको एक साल में कुछ पैसे देने होते है बैंक को जिससे वह आपके अकाउंट को मैनेज करके रखता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top