ब्लॉगिंग के फायदे और नुकसान क्या हैं | Advantage and Disadvantage of Blogging in Hindi

ब्लॉगिंग की लोकप्रियता आज सभी देशों में बढ़ती जा रही हैं. लोगो को घर बैठे काम करना पसंद है इसलिए वो ब्लॉग को स्टार्ट कर रहे हैं। सोच रहे हैं कि अच्छे से अच्छी कमाई हो जाएगी।

ब्लॉगिंग तो बहुत पहले से होती है लेकिन पहले लोग ब्लॉग को एक पार्ट टाइम जॉब की तरह लेते थे। लेकिन देखा जा रहा है कि आज के समय में ब्लॉग को लोग फुल टाइम जॉब के रूप में देखते है.

अगर आपको एक ब्लॉगर बनना है तो ब्लॉगर बनने के बहुत से तरीके हैं। जरूरी नहीं है कि आप एक अपना खुद का ब्लॉग स्टार्ट करके ही ब्लॉगर बन सकते हैं। आप ब्लॉगर बनने के लिए ब्लॉगिंग कंपनी या कंटेंट मार्केटिंग कंपनी को भी ज्वॉइन कर सकते हैं।

लेकिन अगर आपकी सोच यह है कि आपको अपना खुद की एक ब्लॉगिंग साइट खोलनी है और उससे पैसे कमाना है, तो आप ब्लॉगिंग की शुरुआत कर सकते हैं। लेकिन आपको इसका पता होना चाहिए कि ब्लॉगिंग की शुरुआती करते ही पैसे कमाना इतन आसान नहीं है।

ब्लॉगिंग से ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाने के लिए आपको हार्ड वर्क, डेडिकेशन, मोटिवेशन की जरूरत पड़ती है। मैं आपको यही रिक्वेस्ट करूँगा कि अगर आप कोई काम कर रहे हैं या आपका कोई व्यवसाय है तो आप उस काम को मत छोड़िए।

आप पहले ब्लॉगिंग को पार्ट टाइम का काम समझिये। जैसे जैसे आपके ब्लॉग पर ट्रैफिक आने लगता है आप ब्लॉग्गिंग को फुल टाइम भी कर सकते है.

यदि आपको लगता है कि आपको ब्लॉगिंग में सफल होने के लिए नौकरी को छोड़ना जरूरी है। तो मैं आपको रेकमेंड करूँगा नौकरी छोड़ने से पहले आप अपने पास चार से पांच महीने के वेतन को इकट्ठा कर लीजिए जिससे कि आपको ब्लॉग्गिंग शुरू करने दिक्कत न हो.

आज इस आर्टिकल में मैं आपके सामने ऐसे ही कुछ ब्लॉगिंग के फायदे और नुकसान बताने वाला हु.

मैं खुद एक ब्लॉगर हूँ और मैं कई सालों से ब्लॉगिंग फिल्ड में काम कर रहा हूँ तो मैं अपने अनुभव के साथ आपको ये सभी पॉइंट्स को बताऊँगा जो आपकी काफी मदद कर सकते है.

ब्लॉगिंग के फायदे

अपने खुद के बॉस होते है

अगर आप ब्लॉगिंग करते हैं तो आप बॉस की फीलिंग ले सकते हैं। अगर आप किसी कंपनी में काम करते हैं तो आपको नौ से पांच काम करने होते हैं और आपका स्ट्रेस बढ़ता रहता है।

यदि आपने कुछ काम गलती कर दिया तो आप अपने बॉस की भी सुननी पड़ती हैं, लेकिन ब्लॉग्गिंग में ऐसा कुछ नहीं होता है आप अपने मन के मालिक होते हैं। आपका जब मनचाहे काम किया जब मनचाहे ने काम नहीं किया। आपको यहां पे कोई बोलने वाला नहीं होता। सबसे अच्छी बात यह है कि ब्लॉगिंग में कोई नौ से पांच काम करने की आवश्यकता नहीं है।

अधिक ऊर्जा

यदि आप किसी कंपनी में काम करते हैं तो काम करने के बाद जब शाम को घर होते हैं तो आपकी पूरी ऊर्जा निकल जाती है क्योंकि आपका बॉस आपसे पूरी तरह से काम करता है। लेकिन अगर आप ब्लॉगर हैं तो आप आपके जब मन करे आप काम कर सकता है और इसके कारण आपकी ऊर्जा में वृद्धि होती रहती है। अपने ग्राहकों को ज्यादा से ज्यादा समय देने को मिलता है। इससे आपके ग्राहकों की आप पर गारंटी और बढ़ोतरी होती है।

बेहतर वर्क आउटपुट

कौन घर पर बैठकर काम करना पसंद नहीं करता? ब्लॉगिंग ऐसा करियर है जो आप घर पे भी बैठ सकते हैं घर पे बैठ के काम करने से आपको किसी के ऑर्डर सुनने की जरूरत नहीं है। आप यहां पे अपनी सोच पर काम करने के लिए स्वतंत्र होते हैं। आपके दिमाग में अलग-अलग चीजें अलग-अलग ज्ञान की वृद्धि होती है।

ग्राहकों को आसानी से खोजें

यदि आप एक ऐसा ब्लॉगर है जिसके पास बहुत से अविश्वसनीय है तो आप उन पर भी काम कर सकते हैं। इसलिए आप आसानी से खोज को ढूंढ़ सकते हैं।

अपने ग्राहकों को ज्यादा से ज्यादा समय देने में मिलता है। इससे आपके ग्राहकों की आप पर भरोसा और बढ़ोतरी होती है।

Profitable Niche कैसे चुने? Blog Niche Kaise Chune?

ब्लॉगिंग के नुकसान

तुम अकेला महसूस करते हो

ज्यादातर ब्लॉगर इस समस्या का सामना करते हैं कि उन्हें हमेशा अकेला महसूस होता है।

जब आप घर बैठे काम करते हैं तो आपको बाहरी दुनिया में क्या हो रहा है इसके बारे में बिल्कुल पता नहीं चलता और सामाजिक से दूर ये रहना तो बहुत ही बड़ा खतरा है। क्योंकि हर व्यक्ति को यह पता होना चाहिए कि समाज में क्या चल रहा है।

जब आप ब्लॉगिंग करते रहते हैं तो आपको अपने दोस्तों, साथियों, भाइयों की भी याद आने लगती है। यही ब्लॉगिंग का सबसे कड़वा सच है जो ठुकराया नहीं जा सकता।

यह समस्या है जब तक आप एक अच्छा ब्लॉगर नहीं बन जाते, तब तक आपका सामना करना पड़ता है। जब आप एक अच्छे ब्लॉगर होते हैं तो आप किसी को अपने काम के लिए रख सकते हैं कि आपके ऊपर से काम का थोड़ा दबाव कम हो जाता है।

अर्थव्यवस्था की स्थिति

यह समस्या एक नए ब्लॉगर के लिए होता है जो सभी फेस करते हैं। कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनको ब्लॉगिंग करना बहुत ही पसंद होता है, लेकिन वे ब्लॉगिंग से ज्यादा पैसे नहीं कमा पाते हैं। वो यहां हाथ पांव अनजान हैं पर उनके पास पैसे नहीं आते हैं जिससे कि उनके घर की स्थिति खराब हो जाती है। तब वो ब्लॉगिंग को साइड में करके श्री लैंसिंग राइटिंग जॉब करने लगते है.

बीमार होने पर कोई काम नहीं

हम तो इंसान है और इंसान को हमेशा ही बीमारियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे ही बहुत से ब्लॉगर होते हैं। ब्लॉगिंग करते करते बीच में बीमार हो जाते हैं। जिसका बुरा प्रभाव ब्लॉगिंग वेबसाइट पर पड़ जाता है। उनकी वेबसाइट डाउन हो जाती है, सर्च इंजन में नीचे चली जाता है और उन्हें बहुत अधिक लॉस का सामना करना पड़ता है।

अनुशासन

ब्लॉग स्टार्ट करने से पहले आप यह जान लें कि आपको अनुशासन में रह कर ही काम करना होगा। यदि आप अनुशासन में नियम काम नहीं करते हैं तो आपको बहुत ही भारी हानि हो सकती है।

कुछ ऐसे ब्लॉगर होते हैं जो कि कभी सुबह तो कभी रात में काम करते हैं और उन्हें ऐसा लगता है कि ब्लॉगिंग ने उनका करियर बन जाएगा, ये गलत है ऐसा कुछ नहीं होता है.

Personal Blog कैसे बनाये? Personal Blog शुरू करने के Tips

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top